University Established by Government of Chhattisgarh Vide Act 24 of  2004
 
 Home        About Mono       About Courses      About Faculty     Departments       Ordinance        About Campus        Events         Contact US
 
 

मोनोग्राम

 

मोनोग्राम में हम इस विश्वविद्यालय की अभिकल्पना और भावी क्रिया कलापों के दर्शन कर सकते हैं। विश्वविद्यालय का उद्देश्य है वैश्विक संचार ग्राम की कल्पना के साथ-साथ, भारतीय चिंतन "वसुधैव कुटुम्बकम" का संश्लेषण हो, साथ ही अधुनातन तकनीकी विस्तार को भारतीय परंपरा और मूल्यों से जोड़ा जाए। देवर्षी नारद हमारे देश में पहले संप्रेषक या पत्रकार के रुप में जाने जाते हैं। उनके प्रतीक के रुप में एकतारा और खड़ताल दर्शाए गये हैं। सही अर्थों में देखें तो ग्रामीण अंचलों में इसी एकतारे और खड़ताल के द्वारा आज भी संदेशों का प्रभावी संप्रेषण होता है। उसके साथ इंटरनेट और अन्य अत्याधुनिक तकनीकी के प्रतीक के रुप में एक डिस्क दिखाई गई है। दोनो के सामंजस्य से संचार तरंगों का विस्तार प्रदर्शित है।

हम इस विश्वविद्यालय के रुप में एक ऐसा अंतर्राष्ट्रीय केन्द्र बनाना चाहते हैं जो छत्तीसगढ़ को वैश्विक मीडिया परिदृश्य में महत्व के स्थान पर प्रस्थापित करे। इसी कारण ग्लोब के उपर सिर्फ छत्तीसगढ़ के नक्शे को उभारा गया है। धान के कटोरे के नाम से प्रसिद्ध छत्तीसगढ़ का नक्शा भी हरी धान की बालियों से ही बनाया गया है।

भद्रं नोअपि वातय मनो दक्षमुत क्रतुम यह ऋगवेद के 10/25/1 की ऋचा है। इस विश्वविद्यालय के संकल्प में मूल्य आधारित शिक्षा पर विशेष बल दिया गया है। साथ ही संकल्प ऐसे वृतिज्ञ तैयार करने का है, जो राष्ट्र के प्रति उत्तरदायी एवं निष्ठावान हो। ऐसे वृतिज्ञों का मन, अंतरात्मा और बुद्धि तीनों ही स्तर पर परिष्कार जरुरी है। इसीलिए इस ऋचा में प्रार्थना की गई है कि "हे देव हमारे मन को शुभ संकल्प वाला बनाओ, हमारी अंतरात्मा को शुभ कर्म करने वाला बनाओ और हमारी बुद्धि को शुभ विचार करने वाली बनाओ।"

We can sense the philosophy behind the university in terms of its objective and activities from the monogram. The objective of the University is to establish synthesis between the global concept of 'Global Village' and that of Indian philosophy of 'Vasudaiva Kutumvakam' and also to link the modern technological development with Indian values and traditions.

Devarshi Narada is considered as the first Communicator or Journalist of the country. An Ektara and Khadtal in the monogram symbolizes Devarshi Narada. In fact, messages are communicated in rural areas, even today, through Ektara and Khadtal. A disk in the monogram symbolises modern communication technology. 

We want to develop this university an international centre which could put Chhattisgarh in an important place in the global Media scenario.   This is the reason the map of only Chhattisgarh has been created on the globe. To remind Chhattisgarh's identity as 'Rice Bowl', the map of Chhattisgarh has been created using green paddy.  

The Sanskrit hymn in the mono has been taken from Rig Veda (richa 10/25/1). Through this hymn, stress has been given on the value based education in the University. Besides, the responsibility is also to prepare professionals who owe commitment and responsibility towards the nation. To prepare such professional, it is necessary that there is cleanliness in their soul, mind and knowledge. This is the reason, in this hymn it is prayed that " Oh God, fill our souls with auspicious deeds, and fill our intellect with pious thoughts.